भारत की पहली किसान रेल

पहली किसान रेल | देवलाली-दानापुर किसान रेल | भारत की पहली किसान रेल |

Posted on Aug 09, 2020 03:55 IST in Current Affairs.

User Image
4234 Followers
499 Views

भारत की पहली किसान रेल

- रेल मंत्री पियुष गोयल और केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने भारत की पहली किसान रेल को 7 अगस्त 2020 को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। यह भारत की पहली बहु-कृषि उत्पाद ढोने वाली ट्रेन है जिसका उपयोग किसानों के अनाज, फल, सब्जियों, आदि को एक स्थान से दूसरे स्थान भेजा जा सकेगा। यह ट्रेन पूरी तरह से पार्सल ट्रेन है।

- देश की यह पहली किसान रेल महाराष्ट्र के देवलाली से बिहार के दानापुर के बीच चलाई गई तथा इस ट्रेन पर तमाम प्रकार की सब्जियाँ, फल तथा अन्य खाद्यान्नों को भेजा गया।

- 7 अगस्त 2020 को प्रात: 11 बजे देवलाली से चली यह ट्रेन अगले दिन 8 अगस्त 2020 को बिहार के दानापुर स्टेशन सायं लगभग 6:45 पर पहुँच गई। इस प्रकार इस ट्रेन ने 1519 किलोमीटर की दूरी 31 घण्टे 45 मिनट के नियत समय में पूरी की।

- किसान रेल में फलों व सब्जियों को सुरक्षित रूप से रखने की समुचित व्यवस्था के अलावा फ्रोज़न कण्टेनर भी लगाए गए हैं ताकि जल्द खराब होने वाली सब्जियों और फलों को लम्बे समय तक संरक्षित रखा जा सके। इन ट्रेनों को दूध, अन्य दुग्ध उत्पादोंम माँस और मछली जैसे उत्पादों की एक राष्ट्रीय कोल्ड-चेन को कायम करने के लिए भी तैयार किया जायेगा।

- "किसान-रेल" नामक अत्यंत महात्वाकांक्षी इस योजना की घोषणा वर्ष 2020-21 के केन्द्रीय बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने की थी। इस योजना के द्वारा सरकार वर्ष 2022 तक देश के किसानों की आय दोगुनी करने की दिशा में ठोस कदम उठाया जायेगा।

- किसान रेल का मुख्य उद्देश्य: देश के छोटे किसानों और कृषि व्यापारियों की सामान को एक स्थान से दूसरे स्थान भेजने की समस्या का निदान करना जिससे जल्द खराब होने वाली सब्जियों और फल को किसान सही मूल्य पर सही स्थान पर पहुँचा सकें।

Read more