Battle of Saraghari

सारागढ़ी युद्ध का इतिहास

Posted on Mar 27, 2019 02:41 IST in General Studies.

User Image
3974 Followers
1094 Views

 

बैटल ऑफ सारागढ़ी हिस्ट्री — सारागढ़ी युद्ध का इतिहास

सारागढ़ी की लड़ाई को भारत की थर्मोपली भी कहा जाता है. इस लड़ाई की शुरूआत 1897 में पश्तूनों के विद्रोह के साथ शुरू हुई. दरअसल पश्तून उस क्षेत्र में अधिपत्य स्थापित करना चाहते थे. इसके लिए अफगानों ने गुल बादशाह के नेतृत्व में विद्रोह का बिगुल फूंका.

गुल बादशाह अफगान के आफरीदी कबीले का नेता था. अफगान अगर इस क्षेत्र पर कब्जा करना चाहते थे तो उन्हें क्षेत्र के तीन प्रमुख किलो जिनमें फोर्ट लाॅकहार्ट, फोर्ट सारागढ़ी और फोर्ट गुलिस्तां शामिल था को अपने कब्जे में लेना पड़ता.

योजना के तहत अफगान सरदार ने सबसे पहले फोर्ट लाॅकहार्ट पर हमला किया क्योंकि यह उनके रास्ते में पड़ने वाला पहला किला था. इस किले में कर्नल हौथटन अपनी टुकड़ी के साथ लड़ा और उसने अफगानो के हमले को नाकाम कर दिया. अफगानों को यह समझ में आया कि इस किले में लड़ाई की पूरी तैयारी है और आगे पड़ने वाले फोर्ट सारागढ़ी में सिर्फ 21 सिख सैनिक ही है, ऐसे में उन्होंने सारागढ़ी पर हमला करने का फैसला किया.

12 सितम्बर 1897 को करीब दस हजार अफगानो ने सारागढ़ी फोर्ट पर हमला किया. उस वक्त यह फोर्ट हवलदार इसर सिंह जी के नेतृत्व में इस हमले का जवाब देने की तैयारी करने लगा. सबसे नजदीक स्थित फोर्ट लाॅकहार्ट को संदेश भिजवाया गया कि किले पर हमला हुआ है लेकिन कर्नल हौथटन ने स्थिति को देखते हुए तुरंत सहायता करने में असमर्थता जता दी. ऐसे में सिर्फ एक आस बची रह गई कि संदेश फोर्ट गुलिस्तां तक भिजवाया जाये और वहां तक सहायता आने तक अफगानों को रोकने की पूरी कोशिश की जाये.

हवलदार ईसर सिंह जी जानते थे सिर्फ 21 सिपाही दस हजार अफगानियों से युद्ध नहीं जीत सकते थे लेकिन वे अपनी सेना को वह वक्त देना चाहते थे जिसमें सहायता फोर्ट सारागढ़ी तक आ जाये और किला अफगानों के हाथ में न लगे. ईसर सिंह जी ने योजना बनाई और अपनी पूरी ताकत किले के दरवाजे पर लगा दी. अफगानों ने दो बार किले का दरवाजा तोड़ने की कोशिश की लेकिन सिख सिपाहियों ने हर बार उनके हमले का नाकाम कर दिया. अफगान सिपाहियों को जल्दी ही यह बात समझ में आ गई कि किले के दरवाजे को तोड़ पाना उनके बस की बात नहीं है.

 

गुल बादशाह नई योजना के साथ सारागढ़ी जीतने की कोशिश करने लगा. उसकी सेना ने किले के उन सभी हिस्सों को निशाना बनाने की योजना बनाई जहां से किले की दिवार में सेंध लगाई जा सकती है. इस तरह वे दरवाज पर लड़ रहे सिख सैनिकों की ताकत को कई जगह बांट पाने में सफल होगा. इस योजना ने काम किया और शाम होते-होते एक जगह से किले की दिवार ढह गई. अब तक जो लड़ाई हथियारों और बंदूको से लड़ी जा रही थी, अब आमने-सामने की हो गई.

गुल बादशाह ने सिख सैनिकों को आत्मसमर्पण करने का प्रस्ताव दो बार भिजवाया और कहलवाया कि अगर वे हथियार डाल देते हैं तो उनकी जान बख्श दी जायेगी लेकिन हवलदार ईसर सिंह जी ने साफ इंकार कर दिया और लड़ाई जारी रखी गई. आखिर तक सिख सैनिक अफगानों से जूझते रहे. सभी सिख सैनिक शहीद हा गये. इस लड़ाई में शहीद होने वाल पहले सिख सैनिक भगवान सिंह थे और आखिरी सैनिक गुरूमुख सिंह जी थे.

गुरूमुख सिंह जी तो इतनी बहादुरी से लड़े की 20 अफगान सैनिकों की जान लेने के बाद भी उन्होंने अकेले किले को बचाये रखा आखिर में अफगानों को उन पर आग का गोला फेंकना पड़ा. उनके आखिरी शब्द थे जो बोले सो निहाल, सत श्री अकाल। इस लड़ाई में अफगानों को अपने 600 सैनिक खोने पड़े. इस लड़ाई में अफगानों को इतना समय लग गया कि फोर्ट गुलिस्तां से सहायता फोर्ट सारागढ़ी तक पहुंच गई और 14 सितम्बर को ही फोर्ट सारागढ़ी पर वापस ब्रिटिश शासन का कब्जा हो गया. इस लड़ाई में दोनो पक्षों के कुल मिलाकर 4800 लोगों की जान गई.

गुल बादशाह नई योजना के साथ सारागढ़ी जीतने की कोशिश करने लगा. उसकी सेना ने किले के उन सभी हिस्सों को निशाना बनाने की योजना बनाई जहां से किले की दिवार में सेंध लगाई जा सकती है. इस तरह वे दरवाज पर लड़ रहे सिख सैनिकों की ताकत को कई जगह बांट पाने में सफल होगा. इस योजना ने काम किया और शाम होते-होते एक जगह से किले की दिवार ढह गई. अब तक जो लड़ाई हथियारों और बंदूको से लड़ी जा रही थी, अब आमने-सामने की हो गई.

गुल बादशाह ने सिख सैनिकों को आत्मसमर्पण करने का प्रस्ताव दो बार भिजवाया और कहलवाया कि अगर वे हथियार डाल देते हैं तो उनकी जान बख्श दी जायेगी लेकिन हवलदार ईसर सिंह जी ने साफ इंकार कर दिया और लड़ाई जारी रखी गई. आखिर तक सिख सैनिक अफगानों से जूझते रहे. सभी सिख सैनिक शहीद हा गये. इस लड़ाई में शहीद होने वाल पहले सिख सैनिक भगवान सिंह थे और आखिरी सैनिक गुरूमुख सिंह जी थे.

गुरूमुख सिंह जी तो इतनी बहादुरी से लड़े की 20 अफगान सैनिकों की जान लेने के बाद भी उन्होंने अकेले किले को बचाये रखा आखिर में अफगानों को उन पर आग का गोला फेंकना पड़ा. उनके आखिरी शब्द थे जो बोले सो निहाल, सत श्री अकाल। इस लड़ाई में अफगानों को अपने 600 सैनिक खोने पड़े. इस लड़ाई में अफगानों को इतना समय लग गया कि फोर्ट गुलिस्तां से सहायता फोर्ट सारागढ़ी तक पहुंच गई और 14 सितम्बर को ही फोर्ट सारागढ़ी पर वापस ब्रिटिश शासन का कब्जा हो गया. इस लड़ाई में दोनो पक्षों के कुल मिलाकर 4800 लोगों की जान गई.

सारागढ़ी की लड़ाई के शहीद

सारागढ़ी के शहीदों की वीरता की चर्चा इंग्लैण्ड तक हुई और ब्रिटिष शासन ने इन 21 सिपाहियों को सर्वोच्च सेना सम्मान आर्डर आफ मेरिट से सम्मानित किया. 12 सितम्बर को सारागढ़ी दिवस के तौर पर मनाया जाने लगा. इस वीरता की गाथा को भारतीय सेना और दुनिया के कई देशों की सेनाओं में बतौर उदाहरण सैनिकों कोे पढ़ाया जाता है. सारागढ़ी की लड़ाई की याद में पंजाब में अमृत और फिरोजपुर में गुरूदारे के साथ ही कई स्मारक बनाये गये हैं. शहीद हुये सैनिकों के नाम इस प्रकार है—
हवलदार- ईसर सिंह
नायक -लाल सिंह
लांस नायक -  चंदा सिंह
सिपाही - सुंदर सिंह
सिपाही  - राम सिंह
सिपाही उत्तर सिंह
सिपाही साहिब सिंह
सिपाही हीरा सिंह
सिपाही दया सिंह
सिपाही जीवन सिंह
सिपाही भोला सिंह
सिपाही नारायण सिंह
सिपाही गुरूमुख सिंह
सिपाही जीवन सिंह
सिपाही गुरूमुख सिंह
सिपाही राम सिंह
सिपाही भगवान सिंह
सिपाही भगवान सिंह
सिपाही बूटा सिंह
सिपाही जीवन सिंह
सिपाही नंद सिंह

 

 

सारागढ़ी की लड़ाई पर बनी फिल्में

सारागढ़ी की लड़ाई पर कई टीवी प्रोग्राम और फिल्मे बन चुकी है. इस लड़ाई पर प्रख्यात कविता खालसा बहादुर लिखी गई है. इसके अलावा फिल्म निर्माता जय सिंह सोेहेल ने 2017 में सारागढ़ी पर एक फिल्म सारागढ़ीःद ट्रू स्टोरी नाम की डाॅक्यूमेंट्री बनाई. जिसे इस लड़ाई के 120 साल होने के अवसर पर स्टेनफोर्डशायर के नेशनल मेमोरियल एर्बोटम में प्रदर्शित किया गया.

इसके अलावा डिस्कवरी जीत पर सारागढ़ी पर 21 सरफरोश-सारागढ़ी 1897 दिखाई गई जिसमें मोहित रैना और मुकुल देव ने अभिनय किया. बाॅलीवुड भी इस कहानी को लेकर काम कर रहा है. हाल ही में अक्षय कुमार अभिनित केसरी में सारागढ़ी की लड़ाई को पर्दे पर दिखाया गया, जिसे दर्षको ने बहुत पसंद किया. इसके अलावा अजय देवगन, राजकुमार संतोषी रणदीप हुडा के साथ इसी कहानी पर फिल्म बना रहे हैं.

 

First published Hindihaat.com

Read more