6-9 अक्टूबर 2018 करेण्ट अफेयर्स

नोबेल शांति पुरस्कार | भारत-रूस समझौता | नागालैण्ड के गाँधी |

Posted on Oct 10, 2018 02:01 IST in Current Affairs.

User Image
2920 Followers
879 Views

1) वर्ष 2018 का नोबेल शांति पुरस्कार (Nobel Peace Prize) किन दो कार्यकर्ताओं को संयुक्त रूप से प्रदान करने की घोषणा 5 अक्टूबर 2018 को की गई? - डॉ. डेनिस मुकवेगे (Dr. Denis Mukwege) और नादिया मुराद (Nadia Murad)

विस्तार: कोंगो (Congo) के महिला रोग विशेषज्ञ डॉ. डेनिस मुकवेगे (Dr. Denis Mukwege) और इराक (Iraq) के अल्पसंख्यक यज़िदी (Yazidi) समुदाय की मानवाधिकार कार्यकर्ता नादिया मुराद (Nadia Murad) को वर्ष 2018 का नोबेल शांति पुरस्कार (2018 Nobel Peace Prize) संयुक्त रूप से प्रदान किया जायेगा। यह घोषणा नोबेल पुरस्कार समिति ने 5 अक्टूबर 2018 को की। इन दोनों को यह प्रतिष्ठित पुरस्कार यौन अपराधों को युद्ध तथा सशस्त्र संघर्षों में एक प्रमुख हथियार बनाने की प्रवृत्ति को रोकने की दिशा में किए गए इनके कार्यों के लिए प्रदान किया जा रहा है।

- डॉ. डेनिस मुकवेगे ने युद्धग्रस्त अफ्रीकी देश कोंगो (Congo) में अपना लम्बा डॉक्टरी करियर यौन अपराधों की शिकार महिलाओं को मदद प्रदान करने में समर्पित किया है। युद्ध के दौरान ऐसी हजारों महिलाओं का डॉ. मुकवेगे और उनके स्टाफ ने उपचार कर उन्हें मदद प्रदान की है।

- वहीं नादिया मुराद उन लगभग 3,000 यज़िदी महिलाओं तथा बालिकाओं में से हैं जिन्हें इराक में इस्लामिक स्टेट (Islamic State – IS) के लड़ाकों के बलात्कार तथा अन्य अपराधों का सामना करना पड़ा। लेकिन इस्लामिक स्टेट के चंगुल से छूटने के बाद नादिया ने उनके जैसी महिलाओं व बालिकाओं की मदद के लिए "नादियाज़ इनीशियेटिव" (“Nadia's Initiative”) नामक संगठन खड़ा किया जो जनसंहार, यौन अत्याचारों और ऐसे अन्य अपराधों से ग्रस्त समुदायों की मदद का हर-संभव प्रयास करता है।

....................................................................

2) किन दो अमेरिकी अर्थशास्त्रियों को वर्ष 2018 का अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize for Economics) प्रदान करने की घोषणा 8 अक्टूबर 2018 को कीगई? - विलियम डी. नॉरधॉस (William D. Nordhaus) और पॉल एम. रोमर (Paul M. Romer)

विस्तार: अमेरिका के दो अर्थशास्त्रियों - विलियम डी. नॉरधॉस (William D. Nordhaus) और पॉल एम. रोमर (Paul M. Romer) को वर्ष 2018 का अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार (2018 Nobel Prize for Economics) संयुक्त रूप से प्रदान किया जायेगा। यह घोषणा 8 अक्टूबर 2018 को की गई। इस पुरस्कार को आधिकारिक रूप से "स्वेरिज़ेस रिक्सबैंक इन इकोनॉमिक साइंसेज़" (“Sveriges Riksbank Prize in Economic Sciences”) के नाम से जाना जाता है तथा यह पुरस्कार अल्फ्रेड नोबेल द्वारा संस्थापित नोबेल पुरस्कारों में बाद में जोड़ा गया था। इन दो वैज्ञानिकों को जलवायु परिवर्तन (climate change) और सतत विकास (sustainable growth) नीतियों में इनके योगदान के लिए यह पुरस्कार प्रदान किया जा रहा है।

- येल विश्वविद्यालय (Yale economist) के अर्थशास्त्री विलियम नॉरधॉस ने पिछले लगभग 4 दशक दुनिया भर की सरकारों को जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को समझाने में व्यतीत किए हैं तथा उन्होंने सरकारों को इसे रोकने के लिए कार्बन उत्सर्जन पर कर (tax on carbon emissions) लगाने का सुझाव भी कई बार दिया है। वहीं न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय (New York University) के अर्थशास्त्री पॉल रोमर ने सफलतापूर्वक यह सिद्ध किया है कि सरकारी नीतियाँ तकनीकी नवाचार (technological innovation) तथा सतत विकास (sustainable growth) में बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।

....................................................................

3) 5 अक्टूबर 2018 को भारत (India) और रूस (Russia) के मध्य एक अंतर-सरकारी समझौता (Inter-governmental Agreement - IGA) हुआ जिसके तहत भारत को रूस की कौन सी विश्व-प्रसिद्ध विमान-रोधी प्रक्षेपास्त्र प्रणाली (anti-aircraft missile system) हासिल होगी? - एस-400 ट्रायम्फ (S-400 Triumf)

विस्तार: एस-400 ट्रायम्फ (S-400 Triumf) रूस में निर्मित एक अत्याधुनिक विमान-रोधी प्रणाली (anti-aircraft missile system) है जिसे वर्तमान में दुनिया में मौजूद ऐसी प्रणालियों में से सर्वश्रेष्ठ प्रणालियों में से एक माना जाता है। ऐसी 5 प्रणालियों को हासिल करने के लिए भारत ने रूस के साथ एक अंतर-सरकारी समझौता 5 अक्टूबर 2018 को नई दिल्ली स्थित हैदराबाद हाउस में हस्ताक्षरित किया। इस समझौते का कुल मूल्य 5.43 अरब डॉलर ($5.43-billion) है।

- जमीन से सक्रिय की जाने वाली इस विमान-रोधी प्रक्षेपास्त्र प्रणाली के मिलने से भारतीय सशस्त्र सेनाओं को जहाँ चीन से बराबरी हासिल हो सकेगी वहीं ऐसी सुरक्षा प्रणालियों के मामले में पाकिस्तान के मुकाबले भारत को बढ़त मिल जायेगी।

- उल्लेखनीय है कि एस-400 ट्रायम्फ प्रणाली लगभग सभी प्रकार के लड़ाकू विमानों की उपस्थिति का पता लगाने में सक्षम है, यहाँ तक कि अमेरिका के मशहूर स्टेल्थ (Stealth) बमवर्षक का भी पता लगा कर इसे नष्ट कर सकती है।

....................................................................

4) "नागालैण्ड के गाँधी" (‘Nagaland’s Gandhi’) के उपनाम से प्रसिद्ध उस हस्ती का वास्तविक नाम क्या था जिनका 6 अक्टूबर 2018 को निधन हो गया? - नटवर ठक्कर (Natwar Thakkar)

विस्तार: सुप्रसिद्ध गाँधीवादी नटवर ठक्कर (Natwar Thakkar) का 6 अक्टूबर 2018 को संक्षिप्त बीमारी के बाद नागालैण्ड के एक अस्पताल में निधन हो गया। वे मूलत: महाराष्ट्र के थे लेकिन 1955 में नागालैण्ड में आने के बाद वे वहीं के बनकर रह गए।

- उन्होंने राज्य के चुचुयिमलांग (Chuchuyimlang) नामक स्थान पर नागालैण्ड गाँधी आश्रम (Nagaland Gandhi Ashram) की स्थापना की थी तथा उन्हें देश के चौथे सबसे बड़े नागरिक सम्मान "पद्मश्री" से भी सम्मानित किया गया था। नागालैण्ड में गाँधीवादी विचारधारा तथा शांति को बढ़ावा देने के लिए उन्हें "नागालैण्ड के गाँधी" (‘Nagaland’s Gandhi’) का उप-नाम दिया गया था। वे 86 वर्ष के थे।

....................................................................

| Current Affairs | Current Affairs 2018 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking  Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2018 समसामायिकी | 2018 करेण्ट अफेयर्स | नोबेल शांति पुरस्कार | भारत-रूस समझौता | नागालैण्ड के गाँधी | 

Read more