1-5 जुलाई 2018 करेण्ट अफेयर्स

प्रोजेक्ट सशक्त | टाटा स्टील-थाएसेनक्रुप | बैंक ऑफ चाइना | विश्वास पटेल | PCI| एस. रमण |

Posted on Jul 05, 2018 06:28 IST in Current Affairs.

User Image
2920 Followers
1472 Views

1) सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की गैर-निष्पादित परिसम्पत्तियों (non-performing assets – NPAs) की समस्या के निराकरण के लिए तैयार उस पाँच सूत्रीय परियोजना का क्या नाम है जिसकी घोषणा कार्यवाहक वित्त मंत्री पियूष गोयल ने 2 जुलाई 2018 को की? - "प्रोजेक्ट सशक्त" ('Project Sashakt')

विस्तार: "प्रोजेक्ट सशक्त" ('Project Sashakt') केन्द्रीय वित्त मंत्रालय की उस महात्वाकांक्षी पाँच सूत्रीय परियोजना को दिया गया नाम है जिसके द्वारा सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (public sector banks) की क्रेडिट क्षमता में वृद्धि करने, ऋण प्रणाली को दुरुस्त करने और इनके क्रेडिट पोर्टफोलियो को बेहतर करने का खाका खींचा जा रहा है। इस परियोजना में मुख्य जोर इन बैंकों की गैर-निष्पादित परिसम्पत्तियों (NPAs) की समस्या को कम करने पर रहेगी।

- "प्रोजेक्ट सशक्त" ('Project Sashakt') को लागू करने की सिफारिश तथा इसका खाका सुनील मेहता (Sunil Mehta) की अध्यक्षता वाली उस उच्च-स्तरीय समिति ने तैयार किया है जिसका गठन वित्त मंत्रालय द्वारा सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की समस्याग्रस्त परिसम्पत्तियों (stressed assets) के ढांचे में सुधार करने के लिए सिफारिशें प्रदान करने के उद्देश्य से किया गया था। सुनील मेहता पंजाब नेशनल बैंक (PNB) के गैर-कार्यकारी अध्यक्ष (Non-Executive Chairman) हैं तथा उनकी अध्यक्षता वाली इस समिति ने 1 जुलाई 2018 को अपनी सिफारिशें वित्त मंत्रालय को दी थी।

- "प्रोजेक्ट सशक्त" को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों तथा ऋण लेने वाली समस्याग्रस्त कम्पनियों (stressed companies) के परिचालन में सुधार कर परिसम्पत्तियों का मूल्य कायम रखने के लक्ष्य को ध्यान में रखकर लागू किया जा रहा है।

.................................................................

2) भारत की प्रमुख इस्पात कम्पनी टाटा स्टील (Tata Steel) ने किस जर्मन इस्पात कम्पनी के साथ साझा उपक्रम (joint venture) स्थापित करने का अंतिम समझौता 30 जून 2018 को किया जो यूरोपीय इस्पात उद्योग में आर्सेलर-मित्तल अधिग्रहण के बाद सबसे बड़ा सौदा है? - थाएसेनक्रुप एजी (Thyssenkrupp AG)

विस्तार: टाटा स्टील (Tata Steel) तथा जर्मनी (Germany) की इस्पात कम्पनी थाएसेनक्रुप एजी (Thyssenkrupp AG) ने 50:50 साझेदारी वाले साझा उपक्रम (joint venture) स्थापित करने से सम्बन्धित एक समझौता 30 जून 2018 को हस्ताक्षरित किया। इस समझौते के बारे में पिछले कई माह से बातचीत चल रही थी तथा अब इसे अंतिम रूप से कार्यान्वित किया गया है।

- इस नए साझा उपक्रम का नाम थाएसेनक्रुप टाटा स्टील (Thyssenkrupp Tata Steel) होगा तथा लगभग 17 अरब यूरो (लगभग 19.9 अरब डॉलर) मूल्य के इस समझौते में लगभग 48,000 कर्मचारी शामिल होंगे। इस प्रकार यह वर्ष 2006 में लक्ष्मी निवास मित्तल (Laxmi Niwas Mittal) द्वारा आर्सेलर (Arcelor) के अधिग्रहण के बाद यूरोपीय इस्पात उद्योग में सबसे बड़ा सौदा है।

- थाएसेनक्रुप टाटा स्टील का मुख्यालय नीदरलैण्ड्स (the Netherlands) में होगा तथा यह आर्सेलरमित्तल के बाद यूरोप का दूसरा सबसे बड़ा इस्पात-निर्माता होगा। यह साझा उपक्रम थाएसेनक्रुप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) हेनरिच हिसिंगर (Heinrich Hiesinger) की उस योजना का हिस्सा है जिसके तहत वे इस्पात से पनडुब्बियाँ बनाने वाले अपने समूह को एक प्रौद्यौगिकी कम्पनी में परिवर्तित करना चाहते हैं।

.................................................................

3) 4 जुलाई 2018 को आईं मीडिया रिपोर्टों के अनुसार भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने चीन (China) के किस बैंक को भारत में अपना परिचालन शुरू करने के लिए बैंकिंग लाइसेंस प्रदान किया है? - बैंक ऑफ चाइना (Bank of China)

विस्तार: भारतीय रिज़र्व बैंक (Reserve Bank of India – RBI) ने चीन के सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक - बैंक ऑफ चाइना (Bank of China) को भारत में अपना परिचालन शुरू करने के लिए बैंकिंग लाइसेंस प्रदान किया है। यह रिपोर्ट 4 जुलाई 2018 को तमाम मीडिया रिपोर्ट्स में प्रकाशित हुई। बैंक ऑफ चाइना चीन के सार्वजनिक क्षेत्र के कुछ चुनिंदा सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में से एक है।

- उल्लेखनीय है कि जून 2018 के दौरान चीन के शहर किंगडाओ (Qingdao) में शंघाई सहयोग संगठन (Shanghai Cooperation Organisation - SCO) के शिखर सम्मेलन में भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग (Xi Jinping) के साथ हुई शिखर वार्ता में उनको यह भरोसा दिलाया था कि भारत बैंक ऑफ चाइना को भारत में अपनी शाखाएं खोलने की अनुमति प्रदान करेगा।

.................................................................

4) 2 जुलाई 2018 को किसने पेमेण्ट्स काउंसिल ऑफ इण्डिया (Payments Council of India - PCI) के नए अध्यक्ष (Chairman) का पदभार संभाला? - विश्वास पटेल (Vishwas Patel)

विस्तार: विश्वास पटेल (Vishwas Patel), जोकि इन्फीबीम एवेन्यूज़ (Infibeam Avenues) के निदेशक (Director) हैं, ने 2 जुलाई 2018 को पेमेण्ट्स काउंसिल ऑफ इण्डिया (Payments Council of India - PCI) के नए अध्यक्ष (Chairman) का पदभार संभाला। PCI भारत में भुगतान (payments) तथा निपटारा (settlement) प्रणाली में संलिप्त कम्पनियों की शीर्ष संस्था है।

- पटेल वर्ष 2013 से ही इस संस्था से जुड़े हुए हैं जब इसकी स्थापना की गई थी। वे अभी तक संस्था के उपाध्यक्ष थे जबकि अभी तक अध्यक्ष का पद संभाल रहे नवीन सूर्या (Naveen Surya) को संस्था का मानद अध्यक्ष (Chairman Emeritus) बनाया गया है।

.................................................................

5) सार्वजनिक क्षेत्र के कैनरा बैंक (Canara Bank) के उस पूर्व अध्यक्ष (Chairman) का क्या नाम है जिन्होंने 2 जुलाई 2018 को बैंकों में हुए घोटालों की जाँच के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा गठित एक समिति की सदस्यता से स्वैच्छा से इस्तीफा दे दिया? - एस. रमण (S. Raman)

विस्तार: कैनरा बैंक के पूर्व अध्यक्ष एस. रमण (S. Raman) ने 2 जुलाई 2018 को बैंकों में हुए घोटालों तथा बैंकों का पैसा अनयंत्र निवेशित करने की जाँच के लिए भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा गठित एक समिति की सदस्यता से स्वैच्छा से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने इस पद से इसलिए इस्तीफा दिया क्योंकि उनका नाम सीबीआई (CBI) द्वारा दायर एक चार्ज-शीट में डाला गया है।

- 28 जून 2018 को CBI ने विनसम डायमण्ड्स (Winsome Diamonds) नामक फर्म द्वारा 146 करोड़ रुपए का ऋण न लौटाने के एक मामले में कैनरा बैंक के दो पूर्व अध्यक्षों एस. रमण (S. Raman) और ए.सी. महाजन (A.C. Mahajan) का नाम चार्ज-शीट में दायर कराया है। हीरा के व्यापार में संलग्न इस फर्म ने 7,000 करोड़ रुपए से भी अधिक के ऋण की अदायगी नहीं की है।

- उल्लेखनीय है कि एस. रमण पी.जे. नायक (P.J. Nayak) की अध्यक्षता वाली उस समिति में भी शामिल थे जिसने बैंक बोर्ड्स (Bank Boards) की कार्यप्रणाली की समीक्षा वर्ष 2014 में की थी। इसके अलावा वे कॉरपोरेट गवर्नेंस के मसले पर उदय कोटक (Uday Kotak) की अध्यक्षता में गठित एक समिति में भी शामिल थे जिसने पिछले वर्ष (2017 में) अपनी रिपोर्ट दी थी।

.................................................................

| Current Affairs | Current Affairs 2018 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2018 समसामायिकी | 2018 करेण्ट अफेयर्स | जुलाई 2018 |

Read more