1-4 जून 2018 करेण्ट अफेयर्स

आरबीआई | वित्तीय साक्षरता | भारतीय अर्थव्यवस्था | वृद्धि दर | टाटा कैमिकल्स | फॉरेंसिक प्रयोगशाला | 100 सर्वोच्च वि

Posted on Jun 04, 2018 11:12 IST in Current Affairs.

User Image
1361 Followers
722 Views

1) भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने 1 जून 2018 से "वित्तीय साक्षरता सप्ताह" (“Financial Literacy Week”) का प्रारंभ किया। इस सप्ताह के लिए क्या थीम (theme) चयनित किया गया है? - "उपभोक्ता संरक्षण" (Consumer Protection)

विस्तार: 2 जून 2018 से भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा शुरू किए गए "वित्तीय साक्षरता सप्ताह" (“Financial Literacy Week”) का चयनित थीम "उपभोक्ता संरक्षण" (Consumer Protection) है। सप्ताह भर लम्बा यह आयोजन 10 जून 2018 तक चलेगा तथा इसमें आरबीआई बैंक ग्राहकों को वित्तीय उत्पादों तथा सेवाओं के बारे में जागरुकता फैलाने के अलावा उत्कृष्ठ वित्तीय तौर-तरीकों तथा डिज़िटल तरीके अपनाने के बारे में तमाम महत्वपूर्ण जानकारियाँ प्रदान करेगा।

- "वित्तीय साक्षरता सप्ताह" के दौरान इस बार "उपभोक्ता संरक्षण" के बारे में अधिक जानकारियाँ प्रदान की जायेंगी। इसमें अनाधिकृत इलेक्ट्रॉनिक बैंकिंग लेन-देन (unauthorised electronic banking transaction) होने की स्थिति में ग्राहकों की अधिकतम देयताओं (maximum liability) के बारे में बताया जायेगा तथा सुरक्षित डिज़िटल लेन-देन के बारे में जानकारियाँ प्रदान की जायेंगी।

- ग्राहकों को यह जानकारी भी प्रदान की जायेगी की अनाधिकृत डिज़िटल लेन-देन होने की स्थिति में यदि बैंक को 3 दिन के भीतर जानकारी प्रदान कर दी जाती है तो ग्राहक की देयता (liability) शून्य होगी।

.........................................................................

2) 31 मई 2018 को केन्द्र सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2017-18 की जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) की वृद्धि दर (Growth Rate) 7.7% रही जोकि पिछली 7 तिमाहियों की सर्वाधिक वृद्धि दर है। वर्ष 2017-18 की कुल वृद्धि दर कितनी रही? – 6.7%

विस्तार: मैन्यूफैक्चरिंग, निर्माण, सेवा क्षेत्र और कृषि क्षेत्र के रफ्तार पकड़ने के चलते भारतीय अर्थव्यवस्था ने वर्ष 2017-18 की जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान पिछली 7 तिमाहियों का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 7.7% की शानदार वृद्धि दर हासिल की। यह जानकारी भारत सरकार द्वारा 31 मई 2018 को जारी आंकड़ों से सामने आई।

- हालांकि वर्ष 2017-18 की कुल वृद्धि दर पिछले वर्ष (2016-17) की 7.1% की वृद्धि दर के मुकाबले 6.7% रहकर कुछ कमजोर रही जिसका मुख्य कारण केन्द्र सरकार के विमुद्रीकरण (demonetization) और जीएसटी लागू (GST) करने के चलते अर्थव्यवस्था को लगे शुरुआती झटकों को माना जा रहा है।

.........................................................................

3) 1 जून 2018 को जारी जानकारी के अनुसार टाटा कैमिकल्स (Tata Chemicals) ने पश्चिम बंगाल (West Bengal) स्थित अपनी कौन सी उर्वरक उत्पादन इकाई को बेचकर अपने आपको उर्वरक व्यवसाय से बाहर कर लिया है? - हल्दिया उर्वरक इकाई (Haldia fertiliser unit)

विस्तार: टाटा समूह (Tata Group) की कम्पनी टाटा कैमिकल्स (Tata Chemicals) ने 1 जून 2018 को जानकारी दी कि कम्पनी ने पश्चिम बंगाल के हल्दिया (Haldia) में स्थित उर्वरक इकाई को 872.84 करोड़ रुपए के मूल्य पर नीदरलैण्ड्स (Netherlands) के इण्डोरामा समूह (Indorama Holdings BV) की कम्पनी को बेच दिया है। यह फॉस्फेट उर्वरक उत्पादन इकाई है तथा इसे इण्डोरामा समूह की पूर्ण स्वामित्व वाली कम्पनी आईआरसी एग्रोकैमिकल्स (IRC Agrochemicals) को बेचा गया है।

- इस बिक्री के साथ टाटा कैमिकल्स उर्वरक व्यवसाय से बाहर हो गया है तथा कम्पनी द्वारा इस सम्बन्ध में जारी जानकारी के अनुसार अब इनॉर्गेनिक रसायन (inorganic chemicals) के अलावा अपना ध्यान विशेष रसायन (speciality chemical) तथा खाद्य व्यवसाय (food businesses) संवर्ग पर ही देगी।

.........................................................................

4) भारत में महिलाओं तथा बच्चों से सम्बन्धित अपराधों की फॉरेंसिक जाँच कर ऐसे अपराधों को सजा के दायरे के उद्देश्य को पूरा करने वाली देश की पहली उच्चीकृत डीएनए फॉरेंसिक प्रयोगशाला (advanced DNA forensic laboratory) की आधारशिला 1 जून 2018 को किस स्थान पर रखी गई? - चण्डीगढ़ (Chandigarh)

विस्तार: केन्द्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री मेनका गाँधी ने 1 जून 2018 को एक उच्चीकृत डीएनए फॉरेंसिक प्रयोगशाला की आधारशिला चण्डीगढ़ (Chandigarh) की सेण्ट्रल फॉरेंसिक साइंस लैबोरेट्री (advanced DNA forensic laboratory) के प्रांगण में रखी। इस प्रस्तावित फॉरेंसिक प्रयोगशाला की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह विशेष रूप से महिला तथा बच्चों से सम्बन्धित अपराधों की पड़ताल के लिए स्थापित की जा रही है। यह प्रयोगशाला ऐसे अपराधों के खिलाफ अधिक ठोस तथा न्यायालय में अर्ह प्रमाणों को प्रस्तुत करने में भूमिका निभायेगी।

- देश की 23 प्रयोगशालाओं से एकत्रित आंकड़ों के अनुसार देश भर में प्रतिवर्ष यौनाचार के 20,000 नए मामले सामने आते हैं लेकिन फॉरेंसिक साक्ष्यों तथा विश्लेषण के अभाव में उन्हें न्यायालय में सिद्ध करना मुश्किल होता है।

.........................................................................

5) 31 मई 2018 को जारी टाइम्स हायर एजूकेशन (Times Higher Education) की वर्ल्स रेप्यूटेशन रैंकिंग्स 2018 (World Reputation Rankings 2018) में नामित दुनिया के 100 सर्वोच्च विश्वविद्यालयों की सूची में शामिल एकमात्र भारतीय संस्थान कौन सा है? - इण्डियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस (बंगालूरू)

विस्तार: बंगालूरू (Bengaluru) स्थित इण्डियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस (Indian Institute of Science - IISc) टाइम्स हायर एजूकेशन (Times Higher Education) की वर्ल्स रेप्यूटेशन रैंकिंग्स 2018 (World Reputation Rankings 2018) में नामित दुनिया के 100 सर्वोच्च विश्वविद्यालयों की सूची में शामिल एकमात्र भारतीय संस्थान है। यह सूची 31 मई 2018 को जारी की गई। IISc को इस रैंकिंग में 91 से 100 रैंकिंग बैण्ड में रखा गया है। इस सूची में सबसे ऊपर अमेरिका के तीन विश्वविद्यालय – हार्वर्ड (Harvard), मैसाच्यूसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टैक्नोलॉजी (Massachusetts Institute of Technology - MIT) और स्टैनफोर्ड (Stanford) को (क्रमश:) रखा गया है। वहीं ब्रिटेन की कैम्ब्रिज (Cambridge) और ऑक्सफोर्ड (Oxford) चौथे और पांचवें स्थान पर हैं।

- यह वर्ष 2011 के बाद पहली बार हुआ है जब भारत के किसी संस्थान को दुनिया के 100 सर्वश्रेष्ठ संस्थानों की इस सूची में स्थान मिला है। उल्लेखनीय है कि टाइम्स हायर एजूकेशन की वर्ल्स रेप्यूटेशन रैंकिंग्स को दुनिया के सबसे विस्तृत व जटिल अकादमिक ओपीनियन सर्वे और अनुसंधान प्रक्रिया द्वारा तैयार किया जाता है।

.........................................................................

| Current Affairs | Current Affairs 2018 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking , Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2018 समसामायिकी | 2018 करेण्ट अफेयर्स | जून 2018 |

Read more